(CM) मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड 2019 वित्तीय सहायता राशि फार्म

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड 2019, मुख्यमंत्री सुकन्या योजना वित्तीय सहायता राशि फार्म, सुकन्या योजना झारखंड पात्रता, लाभ, झारखंड मुख्यमंत्री सुकन्या योजना 2019, CM Sukanya Yojana Jharkhand. 

झारखंड की राज्य सरकार ने वाल विवाह पर अंकुश लगाने के लिए अब बहुत ही गंभीर हो गई है। जिसके चलते उन्होने मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड की शुरूआत की है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य मे बढ़ रहे वाल विवाह और अन्य सामाजिक कुरीतियो पर रोक लगाना है। इस मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड के तहत करीब 26 लाख परिवार की बेटियो को योजना का लाभ दिया जाएगा। यह एक बहुत ही अच्छी योजना है।

तो अगर आप भी झारखंड मे रह कर इस योजना का लाभ लेना चाहते है तो आप भी इस मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड के तहत आवेदन कर सकते है। हम आपको बताएँगे की कोन से वह पात्र परिवार है जो इस योजना के तहत लाभ लेने के लिए पात्र है। इत्यादि।

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड 2019

तो आपको बता दे की 1 जनवरी 2019 से पूरे झारखंड मे इस मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड को शुरू किया जा रहा है। इस योजना के तहत झारखंड की बेटियो को उनके जन्म से लेकर उनके 18 बर्ष पूरे कर लेने तक समय-समय पर आर्थिक सहायता एवं शिक्षा दी जाएगी। इस प्रोत्साहन राशि को उनके नाम पर खुले हुए अकाउंट मे ही डाला जाएगा। ताकि केवल वही इन पैसो को अपनी शिक्षा और आगे बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करे।

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड

हम जानते है की आधे से ज्यादा जनता के गरीब होने के कारण लड़कियो को आगे पढ़ाया नहीं जाता है। जब उनके परिवार के उन्हे बोझ समझने लग पड़ते है तो उन्हे वालविवाह की तरफ ही जाना पड़ता है। कई बार तो उन्हे खाना भी ढंग से नहीं दिया जाता है । जिससे की बहुत ही लडकीय कुपोषण का भी शिकार हो जाती है। एसे मे जब उनकी शादी कर दी जाती है तो गर्भावस्था के समय शिशु जन्म के समय माता- और शिशु की कई बार मौत भी जाती है। लेकिन जब बेटियो को सरकार की तरफ से ही पढ़ाया लिखाया जाएगा तो उन्हे कोई भी बोझ नहीं समझेगा।

झारखंड मुख्यमंत्री सुकन्या योजना के उद्देश्य

हम सभी जानते है की मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड  का मुख्य उद्देश्य राज्य की बेटियो को शिक्षा मे समर्थन देना है। ताकि वह शिक्षित होकर अपने पैरो पर खड़े हो सके। और अगर वो पढ़ जाती है तो उनका वाल विवाह पर भी रोक लगेगी। राज्य इस योजना के तहत राज्य मे बढ़ रही सामाजिक कुरीतियो को रोकना चाहती है। ताकि बेटियो को भी पूरा हक मिल सके जीने का , पढ़ने का और आगे बढ़ाने का।

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखंड के लाभ

  1. सबसे पहले तो गरीब घर की बेटियो को मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखण्ड के तहत समय समय पर आर्थिक एवं प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।
  2. और इन पैसो से उन्हे शिक्षा की और प्रोत्साहित करना है।
  3. राज्य मे बढ़ रहे वाल विवाह को रोकना भी सुकन्या योजना का मुख्य उद्देश्य है।
  4. राज्य सरकार , गैर सरकार और पंचायती संस्थाओ के साथ मिलकर राज्य मे बढ़ रही सामाजिक कुरीतियो को दूर करना चाहती है।
  5. इस योजना के उपयोग से लड़कियो को बेहतर पोषण दिया जाएगा। ताकि राज्य मे बढ़ रहे माता-शिशु मृत्यु दर मे कमी आ सके।

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखंड के लिए पात्रता

  • इस योजना के तहत सामाजिक एवं आर्थिक जातीय जनगणना के आधार पर 26 लाख परिवार की बेटियो को इस सुकन्या योजना के तहत लाभ दिया जाएगा।
  • बेटी के जन्म से लेकर उनकी 18 बर्ष की आयु तक उनकी शिक्षा एवं अन्य विकास के लिए समय समय पर आर्थिक लाभ दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री सुकन्या योजना झारखंड के तहत मिलने वाली वित्तीय सहायता

अब हम आपको बताने जा रहे है की इस योजना के तहत कब कब और कैसे बेटियो को वित्तीय सहायता दी जाएगी। आइये जाने :-

  1. सबसे पहले तो जिन भी परिवार की बेटियो का चयन इस योजना के तहत किया जाता है। उन्हे इस योजना के तहत कक्षा पहली, कक्षा छठी। नौवी और कक्षा 11 मे दाखिला लेते समय ही सहायता दी जाएगी।
  2. और जब जब उन्हे प्रोत्साहन राशि दी जाएगी, यह राशि उनके अकाउंट मे डीबीटी के माध्यम से जमा की जाएगी।

झारखंड मुख्यमंत्री सुकन्या योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन फॉर्म

तो जैसा की हम सभी जानते है की अभी इस योजना को जनवरी 2019 मे शुरू किया जाएगा। तो इस योजना के लिए अभी तक आवेदन फॉर्म जारी नहीं किया गए है। लेकिन जनवरी के बाद आपको यही से हम डाइरैक्ट लिंक देंगे । ताकि आप सुकन्या योजना के लिए आवेदन कर सके। हम अपनी पोस्ट को नई जानकारी के साथ उपदेत कराते रहते है।

हमने आपको झारखंड मुख्यमंत्री सुकन्या योजना की सारी जानकारी दे दी है। अगर आपको इस विषय पर अन्य जानकारी चाहिए तो आप हमसे ले सकते है। और हमारे साथ जुड़े रहे।

Share This Post on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *